• 2018-12-02
  • 2019-01-04
  • 2018-09-19
  • prerna
  • saakar
  • 18
  • 17
  • 16
  • 15
  • 14
  • 13
  • 12
  • 11
  • 9
  • 7
  • 6
  • 5
  • 4
  • 3
  • 2
  • http://jawaharr-abi.com/wp-content/uploads/2021/09/SAAKAR-2.0_2.jpg

    http://jawaharr-abi.com/wp-content/uploads/2021/09/SAAKAR-2.0_2.jpg

  • WhatsApp Image 2020-10-14 at 6.35.11 PM
  • WhatsApp Image 2020-10-14 at 6.35.12 PM
  • WhatsApp Image 2020-10-14 at 6.35.13 PM
  • WhatsApp Image 2020-10-14 at 6.35.13 PM (1)
  • WhatsApp Image 2020-10-14 at 6.35.14 PM
  • WhatsApp Image 2020-10-14 at 6.35.14 PM (1)
  • WhatsApp Image 2020-10-14 at 6.35.15 PM
  • WhatsApp Image 2020-10-14 at 6.35.15 PM (1)
  • WhatsApp Image 2020-10-14 at 6.35.16 PM
  • WhatsApp Image 2020-10-14 at 6.35.16 PM (1)
  • WhatsApp Image 2020-10-14 at 6.35.16 PM (2)
  • Home
  • Home
  • Home
  • Home
  • Home
  • Home
  • Home
  • Home
  • Home

जवाहर राबी के बारे में

जवाहर राबी एक एग्री-बिजनेस इनक्यूबेटर इकाई है जो प्रबंधन ,प्रशिक्षण , ऑफिस ,सलाह आदि जैसी सेवाएं प्रदान करकें नवीन कृषि आधारित उद्यमियों को विकसित करने में मदद करता है जिसकी स्थापना कृषि व्यवसाय प्रबंधन संस्थान, जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविघालय जबलपुर, मध्य प्रदेश में की गई है, इसका मुख्य उद्देश्य कौशल विकास द्वारा कृषि और संबंधित क्षेत्र में नवाचार के नेतृत्व वाली कृषि स्टार्टअप और व्यवसाय निर्माण ,क्षमता संवर्धन और प्रौद्योगिकी स्केल-अप को बढ़ावा देना हैं।

यह कार्यकम राष्ट्रीय कृषि विकाष योजना कृषि और संबधित क्षेत्र (RKVY –RAFTAAR ) के लिए नवाचार और कृषि उधमीता सेल ,कृषि सहकारिता और किसान कल्याण विभाग भारत सरकार की एक पहल के तहत वित्त पोषित है। इस योजना को तकनिकी और व्यवसायिक विशेषज्ञों ,उघोग सरकारी भागीदारी कृषि के व्यवसायिक विशेषज्ञों के साथ प्रशिक्षण और व्यापक मेंटर नेटवर्क द्वारा आइडेशन स्टेज कृषि उघमियो और स्टार्टअप न्यूनतम व्यवहार्य उत्पाद (एम,वी ,पी )के साथ अपना व्वयसाय को बढ़ाने के लिए किया गया है. जवाहर राबी का नॉलेज पार्टनर पूसा कृषि इनक्यूबेटर ,भारतीय कृषि अनुसन्धान परिषद्, नई दिल्ली है।

 

जवाहर राबी का उद्देश्य

  1. कृषि-स्टार्टअप्स की संस्कृति को बढ़ावा देने के माध्यम से किसानों को नई तकनीक / किस्मों के प्रसार द्वारा “लैब टू लैंड” का उद्देश्य को प्राप्ति करना
  2. कौशल विकास, क्षमता निर्माण और प्रौघोगिकी पैमाने द्वारा कृषि और संबद्ध क्षेत्र में नवाचार, उद्यमशीलता और व्यवसाय निर्माण को बढ़ावा देना।
  3. ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि में युवाओं के लिए रोजगार के अवसर पैदा करना।
  4. प्रौघोगिकी अधिग्रहण, अनुसंधान और विकास, वाणिज्यिक प्रौघोगिकी हस्तांतरण और ज्ञान प्रसार के लिए एक एकीकृत दृष्टिकोण को बढ़ावा देना।
  5. प्रभावी लागत ,मूल्य सम्बंधित सेवाओ तकनिकी ,क़ानूनी ,वित्तीय ,बौद्धिक संपदा नियामक अनुपालन से सम्बंधित सेवाओ के लिए कृषि स्टार्टअप परिस्थितिक तंत्र का निर्माण करना।
  6. शिक्षा ,वित्तीय संस्थानों ,उद्योगों और अन्य सम्बंधित सेवाओ के लिए कृषि स्टार्टअप परिस्थिक तंत्र का निर्माण करना।
  7. अन्य संबंधित उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए आर-एबीआई के रूप में मौजूदा एग्री-इनक्यूबेटर्स की क्षमता निर्माण
  8. स्थानीय, वैश्विक कृषि और व्यावसायिक चुनौतियों, एवं प्रतिस्पर्धाओ को पूरा करने के लिए अभिनव समाधान उत्पन्न / प्रदान करना।

विज़न

कृषि नवाचार को व्यवसायिक ,विपणन ,वैचारिक आदान प्रदान ,वित्तीय संस्थानों से परिचय ,वर्तमान व्यवसायिक नियमन एवं शासकीय योजनाओ से अवगत कराना ।
arrow-pointing-forward_1134-400

मिशन

कृषि आधारित उद्यमियों से आर्थिक सूक्ष्म अधोसरंचना को प्रोत्साहित करना एवं कृषि आधारित स्टार्टअप्स को प्रोत्साहन के हेतु नवाचारियों के लिए अनुकूल परिस्थिया विकसित करना।
WhatsApp Image 2019-07-06 at 6.10.03 PM

PROGRAMME

Jawahar Rabi Png

PRERNA 3.0

PRERNA 3.0 राष्ट्रीय कृषि विकास योजना (रफ़्तार) योजना के तहत भारत के जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्व विद्यालय जबलपुर के कृषि व्यवसाय इनक्यूबेशन राबी का प्रारम्भिक चरण एग्रीप्रेन्योरशिप ओरिएंटेशन प्रोग्राम (AOP) है। यह कृषि और संबद्ध क्षेत्रों में नए उद्यम निर्माण के लिए उपयुक्त कृषि व्यवसाय के विचारों की पहचान, निर्माण, त्वरण और अनुवाद के लिए छात्रों / युवाओं के लिए एक सक्रिय कार्यक्रम को बढ़ावा देने और चलाने के लिए किया गया है। प्रेरणा कार्यक्रम के तहत, चयनित इंटर्न को न्यूनतम व्यवहार्य उत्पाद (एमवीपी) विकसित करने में सक्षम बनाने के लिए दो महीने (60 घंटे) की इंटर्नशिप अवधि के दौरान प्रशिक्षित किया जाएगा।

प्रेरणाआइडिया टू प्रोडक्ट प्रोटोटाइपमूल्यांकन चरण तक)एग्री-स्टार्टअप्स के लिए लॉन्च पैड है, यह कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार की (राष्ट्रीय कृषि विकास योजना (रफ़्तार) योजना द्वारा संचालित जवाहर राबी परियोजना की एक पहल है। यह विशेष रूप से शुरुआती स्टेज एग्री-स्टार्टअप्स के लिए विशिष्ट रूप से डिजाइन किया गया कार्यक्रम है, जिसका उद्देश्य कृषि व्यवसाय और संबद्ध क्षेत्रों में नवाचार और उद्यमिता को बढ़ावा देना है। यह दो-चरण कार्यक्रम है,

  • अवधारणा का प्रमाण’ और विशिष्ट विचारो को अनुसंधान सुविधाओं, तकनीकी विशेषज्ञों, पेटेंट कराने और व्यापक सलाह का समर्थन मिलेगा। यह एक संभव उत्पाद प्रोटोटाइप विकसित करने की सुविधा प्रदान करेगा जिसे व्यवशायिक रूप से बढ़ाया जा सकता है।
  • कृषि उघमी स्टर्टअप की सफलता में मदद करने के लिए आठ सप्ताह की आवासीय ऑरीएंटेशन कार्यक्रम की संरचना की गई है।
  • चयनित स्टार्टअप को दूसरे अन्य सफल स्टार्टअप के साथ जोड़ा जायगा ।
  • चरण -1 के अंत में चयनित स्टार्टअप उद्योग के विशेषज्ञों और उधमी की एक विशेषज्ञ समिति के सामने एक प्रस्तुतीकरण देंगे। विशेषज्ञों की यह समिति दिए गए प्रस्तुतीकरण का मूल्यांकन करेगी और कार्यक्रम के चरण- II के लिए तैयार शार्टलिस्ट स्टार्टअप्स का मूल्यांकन करेगी।
saakar

SAAKAR 3.0

SAAKAR 3.0 राष्ट्रीय कृषि विकास योजना (रफ़्तार) के तहत जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्व विद्यालय, जबलपुर के कृषि-व्यवसाय इनक्यूबेटर (राबी ) का एग्रीप्रेन्योरशिप इन्क्यूबेशन प्रोग्राम (AIP) फंडिंग स्टेज है। इस कार्यक्रम में, कृषि और संबद्ध क्षेत्रों में नवीन समाधान / प्रक्रियाओं / उत्पादों / सेवाओं / व्यापार मॉडल के आधार पर न्यूनतम व्यवहार्य उत्पाद (MVP) वाले संभावित कृषि स्टार्टअप कोअधिकतम 25 लाख रुपये रु दिए जाएंगे। आवेदक स्टार्टअप को औद्योगिक नीति और संवर्धन विभाग (DIPP), वाणिज्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा समय-समय पर जारी स्टार्टअप्स के बारे में स्टार्टअप परिभाषा से संबंधित अधिसूचना के अनुसार मानदंडों को पूरा करना होगा। ऐसे इनक्यूबेटरों को मंत्रालय द्वारा उनकी वास्तविक आवश्यकताओं के अनुसार और राष्ट्रीय कृषि विकास योजना (रफ़्तार) चयन एवं निगरानी समिति (RIC) द्वारा उनके व्यवसाय योजना के मूल्यांकन / मूल्यांकन के अनुसार और इस संबंध में RIC का निर्णय अंतिम होगा।

साकारअपने व्यावसायिक लॉन्च के लिए उत्पाद प्रोटोटाइप (विस्तार चरण का आकलन)

  • स्टार्टअप अपने उत्पादों / सेवा को मान्य करेंगे।
  • स्टार्टअप को सलाह दी जाएगी कि वे अपने उत्पाद / सेवा को व्यावसायिक रूप से कैसे लॉन्च करें और व्यापार में निपुणता को कैसे प्राप्त करे।
  • स्टार्ट-अप को अधिकतम Rs.25 लाख (व्यावसायिक रूप से लॉन्च) तक की प्रारंभिक अनुदान-इन-सहायता दी जाएगी।
  • उद्योग के विशेषज्ञों द्वारा व्यापक विपणन और सलाह समर्थन जारी रखा जाएगा, जब तक कि स्टार्ट-अप हमारे इनक्यूबेटर से प्रशिक्षित नहीं हो जाता।

कार्यक्रम के प्रमुख लाभ

60 Days Orientation Program

60 दिनों का ओरिएंटेशन प्रोग्राम

Excellent Research Lab Facilities

उत्कृष्ट अनुसंधान प्रयोगशाला सुविधाएं

Mentorship from Experts

विशेषज्ञों से सलाह

Pre-Seed Stage Support (Rs.5.00 lakh)

प्रतिकृति उत्पाद से मूल्यांकन तक 5 लाख रु तक का अनुदान

Seed Stage Support (Up to 25.00 lakh)

प्रतिकृति उत्पाद से व्यवसायीकरण तक 25.00 रु लाख तक अनुदान

 

समयावधि

आवेदन करने की अंतिम तिथि
111
Application Closed
प्रारंभिक स्क्रीनिंग परिणाम
222
Under Process…
कोहोर्ट घोषणा-
444
Announce Shortly
ओरिएंटेशन / इक्यूबेशन वर्कशॉप की शुरुआत
5th August 2019
333
Announce Shortly
ऑनलाइन आवेदन करें
Twitter
LinkedIn
Instagram
hi_INHindi